Translate

Friday, November 10, 2017

जागता हूँ

'
तुम्हारे जाने से कहाँ कुछ बदला है अबतक
तब मोहब्बत ने नींद लूटी अब गम में जागता हूँ

No comments:

Post a Comment