Translate

Friday, June 7, 2013

मुहब्बत हूँ

वो अजनबी था लेकिन हँसी शाम लिख गया चुपचाप मेरे दिल पे अपना नाम लिख गया थी बात उसकी महकी बहकती हुई अदा मुहब्बत हूँ मुहब्बत हूँ सरे आम लिख गया

No comments:

Post a Comment