Translate

Sunday, December 30, 2012

जुर्म के खिलाफ

सुनो
चुप रहना
जब तलक कि
तुम्हारी खुद की पीड़ा
तुम्हें तोड़ न दे
बेशक लाठियाँ लेकर
गुमनाम से
बन जाओगे
किसी जुलूस का हिस्सा
मगर चुप रहना
जब तलक
तुम्हारी खुद की कोख
उजड़ न जाए
बेशक बयानबाजी का दौड़ है ये
मगर
लाठी के दौड़ आने तक
चुप रहना
क्योंकि
मर्द होने पे अब गर्व नहीं होता
जेल जाना आम तो नहीं
पर आम आदमी का
जेल जाना
निदान भी नहीं
एक छोटी सी फुँफकार
उथल पुथल मचा देती है
जुलूस टुकड़ों में
गिरती पड़ती नजर आती है
और
इन्सानियत
खबरों तक सिमटकर
सिसकने लगती है
अब बागी दिखना आसान है
बागी होना नामुमकिन
अब न्याय माँगना
बस इत्सिहार लगता है
जुलूस और नारे
खबरों का मसाला बन गया है
अब बदलाव संभव नहीं
चाहो तो बलिदान देकर देख लो
कफन को तरस जायेगी
तुम्हारी लाश
अब कृष्ण बहुत हैं
अर्जुन नगन्य
चलो
फिल्में देखते हैं
मनोरंजन करते हैं
अब कोई नाम नहीं
जिसका जिन्दाबाद हो
जुर्म के खिलाफ आवाज नहीं
अब
हथियार उठनी चाहिये

2 comments:

  1. बहुत सही बात कही है आपने .सार्थक भावनात्मक अभिव्यक्ति भारत सरकार को देश व्यवस्थित करना होगा .

    ReplyDelete
  2. thanx शालिनी कौशिक jee

    ReplyDelete