Translate

Sunday, July 1, 2012

तोड़ जाते हैं दिल अपने ही छलकर के
दुश्मन नहीं आते आसमां से चलकर के
वफा का सुरज जब पुरब से पश्चिम जाये
मोहब्बत रौशन कर आना खुद ही जलकर के

. . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
प्रेम : त्याग का दुसरा नाम
. . . . . . . . . . . . . . . . . . . .
. . . . . . . .MIND IT. . . . .

1 comment: